Home / Religious / हनुमान के साथ इस मंदिर में पूजे जाते हैं ये 2 राक्षस

हनुमान के साथ इस मंदिर में पूजे जाते हैं ये 2 राक्षस

क्या आपने कभी किसी राक्षस की पूजा की है? शायद नहीं किया होगा, जिसके 33 करोड़ देवी-देवता हैं, वह किसी दैत्य की पूजा क्यों करे! आपने हमेशा मंदिर में भगवान की मूर्ति देखी होगी। जरा सोचिए अगर कोई राक्षस आपके प्यारे भगवान के साथ मंदिर में बैठा हो? जी हां, यह कोई काल्पनिक बात नहीं बल्कि सच्ची घटना है।

झांसी के पास पंचकुइयां क्षेत्र में संकटमोचन महावीर बजरंबली जी का मंदिर है। इस मंदिर में बजरमबली के साथ दो राक्षसों की भी पूजा की जाती है। ये दोनों राक्षस रावण, अहिरावण और महिरावण को बहुत प्रिय हैं। यह मंदिर रामायण के लंकाकांड में हनुमान जी द्वारा अहिरावण और महिरावण वध की कहानी कहता है। पुरातत्वविदों की राय के अनुसार चिंताहरण हनुमान जी का यह मंदिर करीब 300 साल पुराना है।

वीर हनुमान की यह प्रतिमा पांच फीट ऊंची है। श्री राम और लक्ष्मण जी महावीर के कंधे पर विराजमान हैं और एक तांत्रिक देवी को अपने पैरों से कुचलते हुए दिखाया गया है। इस प्रतिमा के साथ ही अहिरावण और महिरावण की मूर्तियाँ भी हैं। इस मूर्ति में तांत्रिक देवी की माता हनुमान जी से क्षमा याचना करती नजर आ रही हैं। मूर्ति के दाहिनी ओर हनुमान जी के पुत्र मकरध्वज भी हैं।

इस मंदिर में हर सोमवार और मंगलवार को भक्त आटे का दीपक जलाते हैं और अपनी मनोकामना पूरी होने की प्रार्थना करते हैं। मनोकामना पूर्ण होने पर भगवान को प्रसाद चढ़ाया जाता है। यह प्रसाद हनुमान के साथ-साथ दोनों राक्षसों के लिए भी बनाया जाता है। एक पुरानी मान्यता है कि इस मंदिर में लगातार पांच मंगलवार तक आटे का दीपक जलाने से भक्तों के सभी कष्ट दूर होते हैं और उनकी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

ऐसा माना जाता है कि जब भगवान राम और रावण के बीच युद्ध अपने चरम पर था। तब रावण के भाई अहिरावण ने भगवान राम और लक्ष्मण का अपहरण कर लिया और उन्हें माता भवानी के सामने बलि देने के लिए पाताल लोक में ले गए। माँ भवानी के सामने श्री राम और लक्ष्मण की बलि देने की पूरी तैयारी थी, लेकिन जैसे ही अहिरावण अपने कुल देवता के सामने राम-लक्ष्मण का बलिदान करने के लिए तैयार हुआ, हनुमान जी ने कुल देवी को अपने पैरों के नीचे कुचल दिया। और अहिरावण-महिरावण का वध किया।

About Govind Dhami

Check Also

भारत के ऐसे चमत्कारी मंदिर जिनके रहस्य के आगे विज्ञान ने भी टेके अपने घुटने

भारत धर्म, भक्ति, अध्यात्म और साधना का देश है, जहां प्राचीन काल से ही मंदिरों …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *