Home / Success Story / 8 साल से एक बच्चें की थी आस फिर हुआ चमत्कार और महिला ने एक साथ दिया 4 बच्चों को जन्म

8 साल से एक बच्चें की थी आस फिर हुआ चमत्कार और महिला ने एक साथ दिया 4 बच्चों को जन्म

माता-पिता बनने की खुशी दुनिया का सबसे खूबसूरत एहसास है। यह एक ऐसा पल है जिसे कपल कभी नहीं भूल सकता। शादी के बाद हर कोई चाहता है कि जल्द से जल्द उनके घर में धूम मची हो और उन्हें पहली बार माता-पिता बनने की खुशी मिले। लेकिन कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो जीवन भर बच्चों की खुशी के लिए तरसते रहते हैं।

एक दंपत्ति का दुख सिर्फ वही लोग समझ सकते हैं जिनके बच्चे नहीं हैं, जिन्होंने यह सब झेला है। लेकिन एक पुरानी कहावत भी है कि भगवान जब देता है तो छत फाड़ देता है। दरअसल आज इस लेख में हम गाजियाबाद की एक ऐसी कहानी बताने जा रहे हैं, जिसमें गम भी है और ऐसी खुशी जो किसी चमत्कार से कम नहीं है.

सभी शादीशुदा जोड़े बच्चों के सुख का आनंद लेना चाहते हैं, लेकिन कभी-कभी शारीरिक कमजोरी या अन्य कारणों से उन्हें यह खुशी नहीं मिल पाती है, लेकिन आधुनिक युग में ऐसी कई तकनीकें आ गई हैं, जिनकी पहले किसी ने कल्पना भी नहीं की होगी। ऐसी ही एक तकनीक है आईवीएफ, जिसके बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं। इस तकनीक के जरिए गाजियाबाद की रहने वाली एक महिला ने 4 बच्चों को जन्म दिया।

दरअसल, गाजियाबाद के एक दंपति को पिछले कई सालों से बच्चा नहीं हो रहा था। सीड्स ऑफ इनोसेंस के निदेशक डॉ गौरी ने बताया कि महिला को पिछले 8 साल से कोई संतान नहीं थी. जिसके पीछे का कारण महिला के भीतर प्रजनन क्षमता का सीमित होना था। मां बनने के लिए महिला ने हर संभव कोशिश की। उन्होंने आईयूआई जैसी प्रजनन तकनीक का भी सहारा लिया लेकिन फिर भी उन्हें सफलता नहीं मिली।

इसके बाद महिला ने आईवीएफ तकनीक को चुना। जिसके बाद महिला को खुशी हुई और वह गर्भवती हो गई, लेकिन जब स्कैन किया गया तो पता चला कि महिला के गर्भ में एक-दो नहीं बल्कि 4 बच्चे हैं। 6 सप्ताह के बाद, डॉक्टर ने पुष्टि की कि महिला के गर्भ में चार भ्रूण विकसित हो रहे हैं। जिसके बाद उस महिला ने 4 बच्चों को जन्म दिया। समय से पहले नवजात के जन्म के कारण बच्चों को कुछ दिनों के लिए आईसीयू में रखा गया था, लेकिन जैसे ही सभी की रिपोर्ट सही आई, बच्चों को घर भेज दिया गया.

About Govind Dhami

Check Also

घर वालों को भी विश्वास नहीं था, लक्ष्य सिंघल ने हासिल की 38 रैंक और बन गए IAS अधिकारी

घर वालों को भी विश्वास नहीं था, लक्ष्य सिंघल ने हासिल की 38 रैंक और …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *